कहानी 1857 की क्रांति के सबसे बड़े नायक मंगल पाण्डेय की. 1857 की क्रांति आगाज थी भारत से ब्रिटिश शासन के खात्मे की.

ये कहानी है एक ऐसे वीर की जिन्होंने लंदन जा कर अंग्रेजों से बदला लिया. ये कहानी है 'जलियांवाला बाग' नरसंहार का बदला लेने वाले क्रन्तिकारी उधम सिंह की.

महात्मा गाँधी के 'चंपारण सत्याग्रह' के बारे में हर भारतीय जनता है. पर क्या आप जानते हैं कि बापू को चंपारण लाने वाले व्यक्ति राजकुमार शुक्ल थे?

ये कहानी है एक ऐसी वीरांगना की जो अपने देश के स्वाभिमान की रक्षा के लिए मात्र 21 साल की उम्र में शहीद हो गयीं. मगर इस शहादत ने अंग्रेजों को लोहे के चने चबवा दिए.

ये उन सात शहीदों की कहानी है जिन्होंने अपने ईरादों से अंग्रेजी हुकूमत की ताकत को शर्मिंदा होने पर मजबूर कर दिया था. जबकि ये सभी युवा क्रांतिकारी स्कूल-कॉलेज के छात्र थे.

मदनलाल ढींगरा वो पहले क्रांतिकारी थे जिन्होंने ब्रिटेन जा कर अंग्रेज़ी हुकूमत से उनके अत्याचार का बदला लिया और देश की आज़ादी के लिए क्रांतिकारियों के प्रेरणास्त्रोत बन गये.

एक ऐसा शांतिपूर्ण आन्दोलन जिसका आज़ादी की लड़ाई में मिसाल मिलना मुश्किल है. सत्याग्रह पर आधारित इस आन्दोलन ने अंग्रेजी सरकार को बहुत बड़ी चुनौती दी.

एक ऐसे क्रांतिकारी जिन्हें शहीद-ए-आज़म भगत सिंह अपना गुरु मानते थे और जिनकी तस्वीर हमेशा अपने पास रखते थे. ये कहानी है महान क्रन्तिकारी करतार सिंह सराभा की.

स्वाधीनता संग्राम की एक ऐसी घटना जिसने अंग्रेजी सरकार की ताकत को चुनौती दी. इतिहास के पन्नों में ये घटना काकोरी कांड के नाम से दर्ज़ है.

बाजी राउत भारत के स्वतंत्रता संग्राम में सबसे कम उम्र में शहीद होने वाले क्रांतिकारी माने जाते हैं. मात्र 12 साल की उम्र में बाजी राउत ने अंग्रेजों से लोहा लिया और वीरतापूर्वक शहीद हुए.

एक अंग्रेज अफसर की हत्या के प्रयास के लिए क्रांतिकारी खुदीराम बोस को मात्र 18 साल की उम्र में फाँसी दे दी गयी. इस फाँसी ने एक ओर बोस की बहादुरी का मिसाल कायम कर दिया वहीं दूसरी ओर, अंग्रेजी न्याय व्यवस्था को मजाक बना डाला.

1928 में जब चंद्रशेखर आजाद की अगुआई में हिंदुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन आर्मी का गठन हुआ, तो बटुकेश्वर दत्त भी उसके अहम सदस्य थे और कई क्रांतिकारी गतिविधियों में वो सीधे तौर पर शामिल हुए थे

ये कहानी है एक ऐसे क्रांतिकारी की जिन्हें कुछ लोग भगवान मानते हैं तो कुछ क्रांति का अग्रदूत. ये कहानी है अंग्रेज़ी शासन के अत्याचार के खिलाफ आन्दोलन छेड़ने वाले बिरसा मुंडा की.

तिरंगा झंडा, जिसे देख कर हर भारतीय गर्व और देशप्रेम से भर उठता है. ये कहानी है तिरंगे की अवधारणा को जन्म देने वाले महान स्वतंत्रता सेनानी पिंगली वेंकैया की, जिन्हें 'झंडा-वेंकैया' के नाम से भी जाना जाता है.

6

ये कहानी उन गुमनाम नायकों की है जिन्हें ना तो इतिहास के पन्नों में जगह मिली और ना ही उनके संघर्ष अपने गाँव या राज्य की सीमाओं को पार कर देश दुनिया तक पहुँच पाए. ये कहानी है स्वंतत्रता संग्राम में हिस्सा लेने वाली आम जनता की.